post authorPublisher 2/3/2023 4:30:18 PM (38) (3483)

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट पर देशभर में सियासी हलचल

Ranchi Express

रांचीः हिंडनबर्ग की रिपोर्ट को लेकर देशभर में सियासी हलचल मची हुई है. संसद की कार्रवाही भी इसको लेकर बाधित हो रही है. शुक्रवार को भी संसद में अडाणी समूह और हिंडनबर्ग की रिपोर्ट को लेकर हंगामा होता रहा. विपक्षी पार्टियों ने गुरुवार दो फरवरी को लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही नहीं चलने दी थी. शुक्रवार को अडाणी इंटरप्राइजेज लिमिटेड के शेयरों में गिरावट का दर्ज देखा गया. मुंबई शेयर बाजार और नेशनल स्टाक एक्सचेंज में अडाणी समूह के शेयरों में गिरावट जारी है. 
 
अडाणी इंटरप्राइजेज के शेयरों में शुक्रवार को 35 फीसदी की गिरावट हुई है. एक शेयर की कीमत 1000 रुपये के करीब पहुंच गयी है. हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आने के पहले अडाणी इंटरप्राइजेज के शेयरों की कीमतें 35 सौ रुपये के आसपास था. नौ दिनों में शेयरों के भाव 70 फीसदी गिर गये हैं. उधर, अमेरिकी स्टाक एक्सचेंज डॉउ जोंस ने भी अडाणी इंटरप्राइजेज लिमिटेड को सस्टेनेबिलिटी इंडेक्स से बाहर कर दिया. बांग्लादेश सरकार ने अडाणी ग्रुप के साथ ऊर्जा के क्षेत्र में हुए समझौते में संशोधन की मांग की है. बांग्लादेश सरकार ने कहा है कि अडाणी समूह की ओर से जो बिजली उन्हें दी जा रही है, उसकी कीमतें कम हैं. बांग्लादेश ने अडाणी पावर लिमिटेड के साथ 2017 के बिजली खरीद पर समझौता किया था. 
बांग्लादेश पावर डेवलपमेंट बोर्ड ने गुरुवार को अडाणी पावर को चिट्‌ठी लिखी है. इसमें बिजली खरदी की कीमतों में बदलाव करने की मांग की है. बांग्लादेश पावर डेवलपमेंट कारपोरेशन (बीपीडीसी) का कहना है कि उसे महंगी दर पर बिजली मिल रही है. बीपीडीसी ने नवंबर 2017 में 25 साल के लिए 1496 मेगावाट बिजली की आपूर्ति के लिए अडाणी पावर से डील की थी. उधर नेशनल स्टाक एक्सचेंज ने अडाणी ग्रुप के तीन शेयरों को शॉर्ट टर्म के लिए एडिशनल सर्विलांस मेजर्स (एएसएम) लिस्ट में शामिल कर लिया है. इनमें अडानी पोर्ट, अडानी एंटरप्राइसेज, और अबुंजा सीमेंट शामिल है। एएसएम निगरानी का एक तरीका है, जिसके जरिए मार्केट के रेगुलेटर सेबी और मार्केट एक्सचेंज मुंबई शेयर बाजार और नेशनल स्टाक एक्सचेंज इस पर नजर रखते हैं. इसका लक्ष्य निवेशकों के हितों की रक्षा करना होता है. किसी शेयर में उतार-चढ़ाव होने पर उसे एनएसइ में डाला जाता है. भारतीय रिजर्व बैंक ने भी उन बैंकरों से अडाणी समूह की रिपोर्ट मांगी है, जिसने समूह को कर्ज दिया है. इसमें स्टेट बैंक, कैनरा बैंक सरीखे बैंक शामिल हैं.

You might also like!

Leave a Comment